Home Business Rich Dad and Poor Dad Ch-5: रॉबर्ट और माइक अमीर डैड के...

Rich Dad and Poor Dad Ch-5: रॉबर्ट और माइक अमीर डैड के साथ हर मीटिंग में क्यों जाया करते थे ?

Robert Kiyosaki Rich Dad and Poor Dad Chapter 5 Full Book Summary PDF Did Robert and Mike attend every meeting with Rich Dad? अमीर और ज्यादा अमीर क्यों होते रहते हैं ?

0
Robert Kiyosaki Rich Dad and Poor Dad Chapter 5 Full Book Summary PDF Did Robert and Mike attend every meeting with Rich Dad? अमीर और ज्यादा अमीर क्यों होते रहते हैं ?,
Robert Kiyosaki Rich Dad and Poor Dad

16 साल के रोबर्ट और माइक अमीर डैड के साथ हर उस मीटिंग में जाया करते थे जो वह अपने अकाउंटेंट, मैनेजर्स, इन्वेस्टर और एम्प्लोयियो के साथ रखा करते। वयहां के ऐसा अमीर डैड देखने को मिलते है जो पढ़े-लिखे नहीं है, जिन्होंने 13 साल में ही स्कूल छोड़ दिया था मगर आज वो मीटिंग्स रखते है, अपने निचे काम करने वाले पढ़े-लिखे लोगो को आर्डर देते है, उन्हें बिज़नेस के टिप्स समझने है। एक ऐसा इंसान जो भीड़ का हिस्सा नहीं बना, जिसने रिस्क (Risk) लिया और जिसने लोगो की परवाह नहीं की। जिसे यह डर नहीं था की लोग उसके बारे में क्या सोचेंगे? इन मीटिंग्स का रिजल्ट रहा की लेखक और उनका दोस्त दोनों ही स्कूली पढ़ाई में मन नहीं लगा पाए।

जब भी उनकी टीचर कोई काम देती थी, उन्हें रूल्स के हिसाब से करना होता था। उन्हें एहसास हुआ की स्कूली पढाई किस तरह से बच्चो की प्रतिभा को निखरने नहीं देती। उनकी क्रिएटिविटी को मार कर उन्हें एक साँचे में ढाल कर इस समाज का एक मशीनी हिस्सा भर बना देती है, और उन्हें टीचर की इस बात से भी इंकार था की अच्छे ग्रेड लाकर ही सक्सेसफुल और अमीर बना जा सकता है। एक दिन रोबर्ट की अपने गरीब डैड से बहस हो गई। उनके पिता का मानना था की उनका घर उनके लिए सबसे बेस्ट इन्वेस्टमेंट है।

मगर वो एक रैट रेस में भाग रहे थे। उनकी इनकम और खर्च बराबर ही थी। उन्हें पूरा करने के लिए उनके पास एक पल की भी फुर्शत नहीं थी। यही बात रोबर्ट उन्हें समझना चाह रहे थे की उनके पिता का लिए वो घर अस्सेस्ट नहीं लायबिलिटी है। घर पर उनके पैसे खर्च हो रहे थे बदले में मिल कुछ नहीं रहा था। यह बात उनके गरीब डैड समझ नहीं पा रहे थे, और यही फर्क था अमीर और गरीब डैड के बिच। ख़ैर उनकी बहस चलती रही उन्होंने गरीब पिता को बताया की अधिकतर लोगो की ज़िन्द्की लोन चुकाने में ही निकल जाती है। जिस पर घर को वह खरीदते है। उसके लिए वह 30 साल तक लोन भरते है। फिर एक और बड़ा घर लेते है और पुराना लोन रेनियु करवाते है। अब घर की कीमत भी उसी हिसाब से बढ़ेगी या नहीं ये निर्भर करता है।

कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने घर खरीदने के लिए एक बड़ी रकम ली थी, जितनी घर की कीमत नहीं थी उससे ज्यादा कर्ज उनके सर पर चढ़ गया। इसका सबसे बड़ा नुकसान लोगों को यह होता है कि वह बाकी जगह इन्वेस्टमेंट नहीं कर पाते क्योंकि उनका सारा पैसा उस घर पर लगा है। उन्हें कभी इन्वेस्टमेंट करने का मौका नहीं मिल पाता और ना ही वह इस बारे में कुछ सीख पाते, और इसी प्रकार एस्सेट्स उनके हाथ से निकलते जाते हैं। अगर इसके बदले लोग सिर्फ एस्सेट्स पर ध्यान दें तो उनका फ्यूचर कहीं ज्यादा बेहतर हो सकता है।

अब उदाहरण के लिए रॉबर्ट की पत्नी के पेरेंट्स एक बड़े से घर में शिफ्ट हो गए। उनका सोचना था कि अपने लिए बड़ा और नया घर लेना एक सही फैसला है, क्योंकि बाकी और की तरह उन्हें भी कर लेना एक एस्सेट्स लगता था। मगर वह यह जानकर हैरान रह गई कि उस घर का प्रॉपर्टी टैक्स हजार डॉलर था। यह उनके लिए एक बड़ी कीमत थी, और क्योंकि वह रिटायर हो चुके थे तो इतना पैसा टैक्स के रूप में भरना उनके रिटायरमेंट बजट से बाहर था। बेशक हम यह नहीं कह रही कि आप एक नया घर ना लें, बल्कि हम समझाना चाहते हैं कि जितने पैसे से आप एक बड़ा घर लगे उतने पैसे से आप किसी एस्सेट्स में इन्वेस्टमेंट तो बेहतर होगा। आपका एस्सेट्स आपके लिए कमाई करेगा और कुछ ही समय बाद आपके पास इतना पैसा होगा कि आप आसानी से मनपसंद घर ले पाएंगे वह भी बिना किसी लोन के।

अमीर और ज्यादा अमीर क्यों होते रहते हैं ?

अमीर और ज्यादा अमीर क्यों होते रहते हैं, वही मिडिल क्लास आगे क्यों नहीं पढ़ पाते ? इसके पीछे भी एक वजह है। कारण सीधा है, अमीर एस्सेट्स खरीदते हैं जो उनका पैसा दुगना करता रहता है। उस पैसे से उनके सारे खर्च मजे से निपट जाते हैं, और मिडिल क्लास क्या करते हैं ? वह तो केवल महीने की 1 तारीख का इंतजार करते हैं जब उनकी सैलरी आए. सारी की सारी सैलरी तो खर्चा को पूरा करने में खत्म हो जाती है, तो इन्वेस्टमेंट कहां से होगा, और फिर जब सैलरी बढ़ती है तो उस पर टैक्स भी बढ़ जाता है, उसी हिसाब से बाकी खर्चे भी। फिर अंत में वही रेट रेस (Rat Race) चलती रहती है।


Rich Dad Poor Dad All Chapter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here